You are currently viewing what is a database in Hindi
database

इस आर्टिकल में डेटाबेस के बारे में डिसकस किया जाएगा what is database in Hindi आज का समय बहुत बदल चुका हैं क्योंकि आजकल बहुत सारे काम ऑनलाइन हो रहे हैं जैसे बिल पेमेंट , होटल रिजर्वेशन ,फ्लाइट टिकट ,रेलवे ट्रैन टिकट ये सभी काम 15 से 20 साल पहले ऑफलाइन हुआ करते थे। लेकिन इंटरनेट कि क्रांति कि वजह से ये सभी काम अब ऑनलाइन हो रहे हैं। आज अगर किसी को ट्रैन कि टिकट बुक करना होता हैं। तो मोबाइल में मिनटों के अन्दर बुक हो जाती हैं। जिसके वज़ह से बहुत सरे रिकार्ड्स फाइल्स को  रखने के लिए बहुत सारी जगह कि जरुरत पड़ती थीं।

अब डाक्यूमेंट्स को स्टोर कर के रखने कि जरुरत नहीं हैं। ये सभी को इंटरनेट पर स्टोर कर के रख सकते हैं। जिसे डेटाबेस बोलते हैं। डाटा बेस में डाटा को सही और सुरक्षित तरीके से रखा जाता हैं और इसका बैकअप भी एक्स्ट्रा में रखा जाता हैं ताकि कोई परेशानी होने पर डाटा को आसानी से रिकवर किया जा सके।

Database:

ये जानकारियों का संग्रालय होता हैं जहा पर डाटा को कलेक्ट कर के सुरक्षित ढंग से रखा जाता हैं ये किसी भी इनफार्मेशन का छोटा सा हिस्सा होता हैं। ये जैसे इमेज फाइल ,पीडीएफ फाइल ,वीडियो फ़ाइल ऑडियो फ़ाइल ,पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन इत्यादि को डाटा बोल सकते हैं।

जब इन सभी को एक जग़ह कलेक्ट किया जाता है तो वो इनफार्मेशन बन जाता हैं। और उसमे से डाटा को organize कर के रखा जाता हैं। और डाटा को शेयरिंग और रिसीव करने का भी काम करता हैं। जैसे डाटा को स्टोर करने के लिए M.S excel इसमें सारे डाटा को इनपुट करने के बाद कंप्यूटर के हार्ड डिस्क में स्टोर किया जाता हैं।

डाटा बेस में भी कई तरह के row और कॉलम होते हैं उसकी वज़ह से उनको एक्सेस करना आसान हो जाता हैं इंटरनेट पर कई websites हैं जो डाटा बेस का यूज़ करती हैं।

example के लिए आप कोई सोशल मीडिया साइट को ले लीजिये जिसमे यूजर के बारे में कई डाटा स्टोर होते हैं जिसमे यूजर के बारे में कई डाटा स्टोर रहता हैं जैसे नाम फोटो, वीडियो इत्यादि और जब हम क्लिक करते हैं तो हमें मिल जाता हैं। ये सभी डाटा सर्वर के डाटा बेस में स्टोर रहता हैं।

इसी तरह कई तरह के और भी वेबसाइट होते हैं जो डेटाबेस का यूज़ कर रही हैं। जैसे प्राइवेट या गवर्नमेंट etc .

आजकल ऑनलाइन बैंकिंग ,ऑनलाइन टिकट आदि में डाटा बेस का यूज़ होता हैं। इसकी तरह सारी जानकारी डेटाबेस में स्टोर रहती हैं। जिसको कि अपनी सुविधा के अनुसार एक्सेस किया जाता हैं। कभी भी किसी भी समय।


Main elements:-

  1. Field
  2. Record
  3. Table

इसमें जैसे किसी row और कॉलम में किसी स्टूडेंट्स का डाटा है। इसको बनाते समय ये तीनो एलिमेंट्स आ जाते हैं। जैसे example के तौर पर –


Serial number              Student name                   Class              subject                  Marks इसको फील्ड                                                                                                                                                बोलते हैं 

1.                                abcd                                   6th         english                   74  इसको रिकॉर्ड                                                                                                                                                 बोलते हैं

ये दोनों को मिलकर के जो बनता हैं इसको टेबल बोल सकते हैं।

DBMS ( Database Management system):- ये एक ऐसा सॉफ्टवेयर हैं। जिसके जरिये यूजर डाटा बेस को क्रिएट , डिफाइंड और मेन्टेन करता हैं। इसके example ये हैं –

  1. My SQL
  2. Microsoft access
  3. ORACLE
  4. Fox Pro 9
  5. IBM DB2

DBMS का यूज़ आमतौर पर database को मेन्टेन करने के लिए किया जाता हैं। इसका मतलब आप डाटा को डेटाबेस में इन्सर्ट ,एडिट ,डिलीट ,अपडेट को एक्सेस कर सकते हैं।  जैसे आप कार पार्ट्स कि टेबल बनाये हैं तो इसमें आप पार्ट्स के डिटेल को ऐड कर सकते हैं। अगर गलत डाटा भर दिया हैं तो एडिट कर सकते हैं। यहाँ से आप कभी भी एक्सेस कर सकते हैं।

 Data Models:-


डेटाबेस में डाटा को कैसे स्टोर manuplate , organize और डाटा को कैसे कनेक्ट रहता हैं इसको डाटा मॉडल बोलते हैं ये तीन टाइप के होते हैं –aur jane what is servers

  1. Hierarchical Model:- इसमें tree structure को फॉलो किया जाता जाता हैं। 
  2. Network Model:- Record के रूप में दिखाया जाता हैं। 
  3. Relational Model:- पावरफुल और सिंपल होता हैं। unique फील्ड को key बोलते हैं। 

Benefits :-

  • डेटाबेस के जरिये कम जगह में भी ज़यादे डाटा स्टोर किया जा सकता हैं। 
  • किसी इनफार्मेशन को आसानी से एक्सेस किया जा सकता हैं। 
  • नए डाटा को इन्सर्ट कारण पुराने डाटा को डिलीट और एडिट करना इजी होता हैं। 
  • डाटा को अलग अलग तरह से सॉर्ट किया जा सकता हैं। 
  • एक ही डाटा बेस को कई यूजर एक ही साथ एक्सेस कर सकते हैं। 
  • प्रॉपर फाइल के तुलना में अधिक सिक्योरिटी प्रदान करता हैं। 
  • डुप्लीकेशन को कम करता हैं। 
  • बैकअप और रिकवरी कि सुविधा प्रदान करता हैं। 
uses:-
  • बैंकिंग के फील्ड में यूज़ किया जाता हैं। 
  • रेलवे रिजर्वेशन सिस्टम में यूज़ किया जाता हैं। 
  • एयरलाइन्स में भी यूज़ किया जाता हैं। 
  • लाइब्रेरी मैनेजमेंट में भी यूज़ किया जाता हैं। 
  • स्कूल , कॉलेज ,यूनिवर्सिटी  में भी यूज़ होता हैं। 
  • सोशल मीडिया साइट्स में भी यूज़ होता हैं। 
  • ऑनलाइन शॉपिंग में भी यूज़ होता हैं।

what is a database in Hindi

Leave a Reply