You are currently viewing what is a satellite ?
satellite

इस article में हमलोग satellite के बारे में discuss करेंगे जैसे ye क्या होता हैं इसका history क्या है ye कितने type का होता है। इसका use कहा होता हैं। पहली बार कब लांच किया गया था। अभी तक कितनी लांच कि जा चुकी हैं।

History:-

पहली बार आर्टिफीसियल satellite सोवियत यूनियन ने 4 अक्टूबर 1957 को लांच किया था। satellite का नाम स्पुतनिक था। और इस को सेर्गेई कोरोलेव ने बनाया था इसके बाद 31 अक्टूबर 1958 को यूनाइटेड स्टेट ऑफ़ अमेरिका ने एक्स्प्लोरर को लांच किया। इसके बाद से satellites लांच करने का  दौर शुरू हो गया। 

Definition:-

ye एक object हैं जो space में  किसी बड़े object के चारो तरफ चक्कर लगाता हैं। वैसे ye दो तरह कि होती हैं एक natural और आर्टिफीसियल जैसे moon earth का एक नेचुरल हैं। जो satellite human earth से किसी particular काम के लिए लांच करते हैं। वो आर्टिफीसियल होती है। जैसे आर्यभट एक आर्टिफीसियल satellite है।

हमलोगो ने अपने अलग अलग कामो के लिए अलग अलग तरह कि satellites को बनाया है ताकि वो हमारे कामो को कर सके। इनका साइज purpose के हिसाब से बदल सकता हैं। small भी हो सकती है और big भी हो सकती है

जो हमलोग photos में देखते हैं उसमे एक बड़ा सा सोलर पैनल लगा होता हैं जो कि sun से satellite को power देता है। satellite में कई तरह के instrument लगे होते है. जैसे: फोटो के लिए कैमरा लगा होता है तो स्कैन के लिए स्कैनर लगे होते हैं। मुख्य रूप से इनका use communication,नेविगेशन,मौसम जानकारी इत्यादि के लिए use किया जाता हैं।

ये Kepler के law पर work करती हैं ये अपने place पर constant speed से move करती हैं। जो satellite earth के पास हैं वो fast स्पीड से चक्कर लगाती हैं। और जो दूर है वो slow speed से चक्कर लगाती हैं।


orbit के हिसाब से satellite तीन तरह कि होती हैं –

  1. low earth orbit
  2. Medium earth orbit 
  3. high earth orbit

1. low earth orbit satellite:- ये satellite दिन भर में earth के कई चक्कर काटती है। इनकी earth surface से हाइट 100 से 1000 किलोमीटर के अंदर होती हैं। इनका use scanning,इमेजिंग etc के लिए किया जाता हैं। 

2. Medium earth orbit :- इनका path fixed होता है ये 12 घंटे में earth का चक्कर लगा लेती हैं। इनका earth कि surface से 10000 से 20000 किलोमीटर कि distance पर होती हैं। medium earth का use नेविगेशन,कम्युनिकेशन इत्यादि में किया जाता हैं। 

3. high earth orbit :- इस satellite कि earth surface से दुरी 36000 किलोमीटर या इससे ज्यादा होती हैं। इनका use कम्युनिकेशन,मौसम विज्ञान , इत्यादि में किया जाता हैं। ये satellite earth के रोटेशन से अपनी रोटेशन मैच कर लेती हैं। https://www.space.com/24839-satellites.html

Types of satellite-

वैसे तो ye कई तरह के होते हैं जिनका use purpose के आधार पर किया जाता हैं। हमलोग main use होने वाली satellites के बारे में discuss करेंगे-

1. Astronomical satellite:- जैसे कि नाम से हि पता चल रहा हैं astronomical इस का use दूर के planets ,galaxies और बाहरी space कि स्टडी करने के लिए use किया जाता हैं। 

2. Communication satellite:-इसका use generally टेलेकम्युनिकटशन के लिए किया जाता हैं ये low orbit me होती हैं जैसे टेलीविज़न , टेलीफोन ,रेडियो ,इंटरनेट इत्यादि में use होता हैं। isme high frequency रेडियो wave का use किया जाता हैं। 

3. Earth observation: -इसका use environmental purpose मैट्रोलोजी aur map-making में किया जाता हैं। 


4. Navigational :- इसका main use G.P.S में होता हैं।  जैसे मोबाइल में गूगल मैप या गूगल earth इसका बेस्ट example है। 

5. weather:- इस satellite का use weather climate, ocean currents, storms auroras, pollution, snow cover dust storms, city lights, etc में use किया जाता हैं। what is AI?

uses:-

  • Map बनाने में use किया जाता हैं। 
  • space के अंदर कि गतिविधिओ को समझने के लिए use किया जाता हैं। 
  • earth और सोलर system का picture लेने के लिए use किया जाता हैं। 
  • दुशरे planets कि स्टडी करने के लिए use किया जाता हैं। 
Conclusion:- 

 so that इस तरह से देखा जाये तो इस आर्टिकल में हम लोगो ने satellite के बारे कई तरह के information के बारे में discuss किया। iske के use के बारे में types ke bare etc. इस तरह से देखा जाये तो iske के कई तरह के फायदे हैं। human life ko आरामदायक बनाने में।

Important note 


अभी तक 8378 आर्टिफीसियल satellite भेजी जा चुकी हैं। 

सबसे जयादा अमेरिका ने भेजा हैं। फिर रूस उसके बाद other countries . 

what is a satellite ?

Leave a Reply